नमर्दंगी की इलाज मेरे से करवाया

loading...

Namardangi ki ilaj mere se karwaya..

प्रेषक :राजेश ,

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम राजेश  है और मै एक डॉक्टर हु | मै एक छोटे से गावं मे अपनी डाक्टरी चलता हु | मेरे पास पुरे गावं की छोटी-मोटी बीमारी वाले मरीजों के अलावा, सेक्स संभंदी आदमी और औरत भी आते है | आज मै आपको अपने ऐसे ही एक मरीज़ के बारे मे बताता हु | वो गावं के बड़े घराने का लड़का था और उसकी शादी ३-४ साल पहले हुई थी और उसकी औरत को तब तक बच्चा नहीं हुआ था | जब वो लड़का, इस बात के लिए मेरे पास आया, तो मैने उसको शहर जाकर कुछ टेस्ट करवाने को बोला और टेस्ट के नतीजे से पता चला, कि औरत मे कोई कमी नहीं थी और उस लड़के मे कमी थी और वो बच्चा पैदा करने मे सक्षम नहीं था और सब कुछ जाने के बाद, उस लड़के ने जो मुझे कहा, वो सुनकर मै पागल हो गया | वो लड़का, किसी को बता नहीं सकता था, कि वो बच्चा नहीं पैदा कर सकता; इससे उसकी मर्दानगी कम हो जाती | उसने मुझे अपनी बीवी को चोदने के लिए बोला और उसके लिए बच्चा पैदा करने लिये कहा | मुझे उस लड़के को कोई खतरा नहीं था, एक तो मै पढ़ा-लिखा नहीं था और उस गावं का नहीं था |

एक दिन, वो अपनी पत्नी को इलाज के नाम पर मेरे क्लिनिक लेकर आया और मैने पहली बार उसको देखा था, यक़ीनन, बहुत ही सुंदर थी उसकी बीवी | गावं की लड़कियों मे एक अजीब सी कशिश होती थी और उसके बदन की महक मुझे पागल बना रही थी और मेरे लंड ने खड़ा होना शुरू कर दिया | चुकि, मै अपनी मेज़ के पीछे था; तो मेरे खड़े लंड को कोई देख नहीं पाया और फिर मैने उस लड़के को बाहर जाने को बोला और उसकी बीवी निम्मी को पलंग पर लेटने के लिए बोला | मै निम्मी को भी एक बार चेक करके संतुस्ठ होना चाहता था | मैने निम्मी को लिटाया और हाथ लगाने से पहले, उससे से थोड़ी सी बातचीत शुरू कर दी; ताकि वो मेरे साथ आराम महसूस कर सके | फिर, मैने उसको उसके पति के बारे मे बताया और उसकी मंशा भी बताई | निम्मी अपने आप को थोडा असजः महसूस कर रही थी, तो मैने उसके होठो पर हाथ फिराने शुरू कर दिये और उसके शरीर पर भी कामुकता से हाथ फेरने शुरू कर दिये | निम्मी ने भी थोडा सा मचलना शुरू कर दिया और मैने उसके कपडे खोलने शुर्र कर दिये | मैने उसको नंगा नहीं किया और सिर्फ उतने ही कपडे उतारे; जितने मुझे चेक करने के लिए उतारने थे | जब मैने सब कुछ चेक कर लिया, तो उसको कपडे पहनकर बाहर आने को कहा और उसके पति को बुला लिया |

फिर, मैने उसके पति को सारी बातें बता दी और उसके पति ने मुझे उसके लिए काफी सारा पैसा देने ला वायदा किया और बच्चे के बारे मे पता लगने के बाद, गावं छोड़ने के लिए कहा | मुझे कोई ऐतराज़ नहीं था और मैने उसको क्लिनिक की छुट्टी वाले दिन बुलाया | उस दिन, मैने अपने आप को काफी साफ़ किया और कुछ जरुरी बातें, निम्मी को भी समझा दी | उस दिन, निम्मी अपने पति के साथ मेरे घर आ गयी और निम्मी का नामर्द पति, दुसरे कमरे मे जाकर ले गया और बाहर इंतज़ार करने लगा | निम्मी को मैने अपने बिस्तर पर बैठाया और उसको मिठाई खिलाई और अपने होठो को निम्मी के होठो से जोड़ दिया | मेरी और निम्मी की साँसे गरम हो रही थी और तेज-तेज चल रही थी | मैने हाथ निम्मी के बदन पर हलचल कर रहे थे और निम्मी मस्ती मे कसमसा रही थी और मुझे बोल रही थी, कि डोक्टर मुझे नहीं मालूम था, कि तुम इतने गरम हो आआआआआ……….ऊऊऊऊओ…साला मेरा पति तो नामर्द है और मेरी चूत की प्यास को बुझा नहीं पता | तेरा लंड मेरी चूत को फाड़ देगा? ऊऊऊऊऊऊऊ………………..ऊऊऊओ…साले आ जा और छोड़ डाल मुझे | उसके बदन की खुशबु ने तो मुझे पहले ही पागल कर दिया और उसकी इन बातो ने मेरे लंड को पर बड़ा कर दिया और मेरा लंड रिसने लगा |

अब मुझे से रुका नहीं जा रहा था और मैने निम्मी की गर्दन पर अपने होठ रख दिये और उसके शरीर को चूसने लगा | मेरे हाथो ने निम्मी के कपडे खोलने शुरू कर दिये और १ ही मिनट मे मैने निम्मी को नंगा कर दिया | उसका नंगा गोरा बदन किसी संगमरमर की तराशी हुई ही मूर्ति से कम नहीं लग रहा था | निम्मी के चूत से सफ़ेद जूस ने बाबर निकलकर चूत के बालो पर जमना शुरू कर दिया | मैने भी मिनट से कम समय पर अपने कपडे अपने बदन से अलग कर दिये और मेरा काला लंड हद से ज्यादा बड़ा हो चुका था और किसी सांप की तरह फुंकार रहा था | निम्मी नंगी पलंग पर पड़ी हुई थी और उसने अपने पैर खोल रखे थे और उसकी बालो से ढकी हुई चूत, मेरा लंड लेने के लिए मचल रही थी | मैने आव-ना-देखा-ताव और अपने लंड को अपने हाथ से हिलाता हुआ, निम्मी की चूत पर पिल पड़ा |

मैने अपना लंड निम्मी की चूत पर घिसना शुरू कर दिया और निम्मी ने मस्ती मे मचलना और उसकी कामुक आवाज़े कमरे के माहौल को और भी मदमस्त बना रही थी आआआआआआआआ……………ऊऊऊऊऊऊऊ…मैने अपने लंड रगड़ते हुए, एक ही झटके के साथ अपने लंड, निम्मी की चूत मे घुसा दिया और लंड ने चूत मे ssrrrrrrrrrr करते हुए, अपनी जगह बना ली और निम्मी की चीख निकल पड़ी आआआआआआआआआआआआआआ…………..मर ग्यीईईए……………………….क्या कर रहा है साले? मरेगा क्या ? वाह……….और फिर मेरे तेज धक्के निम्मी की गांड को हिलने पर मजबूर करने लगे | हम दोनों का शरीर थप थप थप थप थप करके टकराने लगे और पूरा कमरा हमारी आवाजो से गूंजने लगा | हम दोनों मज़े मे उछाल रहे थे और पूरा पलंग हिलने लगा | हम दोनों की ही धक्के तेज होने लगे एक ही साथ हम दोनों ने अपनी-अपनी गरम पिचकारी छोड़ दी l मैने गरम वीर्य की धार उसकी चूत पर गिरी; तो निम्मी चिल्ला उठी आआआअ………………ऊऊऊऊऊ…बहुत ही गरमा है साले | लग रहा है, कि गरम लोहे का सरिया मेरी चूत मे घुसा दिया हो | हम दोनों थक गये थे और ५ मिनट एक दुसरे पर पड़े रहने के बाद हम अलग हो गये और करब १५ मिनट बाद, निम्मी उठी और अपने पति के साथ चली गयी | उसका पति वायदे की मुताबिक कुछ पैसे मुझे दे गया | मैने निम्मी को २-३ बार और चोदा और महीने भर बाद ही निम्मी की गोद मे मेरा बच्चा था | निम्मी के ससुराल मे सब खुश थे और जब निम्मी को बच्चा हो गया, तो मैने वो गावं हमेशा के लिए छोड़ दिया | अब मेरी भी शादी हो चुकी है और मेरे २ बच्चे है और मैने इस वाकिये को हमेशा के लिए भुला दिया है |

धन्यबाद ………

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *