सुजाता मैडम की मद मस्त हलकट जावानी

loading...

हेल्लो दोस्तों ,मेरा नाम राहुल है और मैं पुणे का रहने वाला हूँ, मैं इस वेबसाइट में रेगुलर विजिट करते रहेता हु . मैं आज सोचा क्यों ना अपना भी सेक्स एक्सपीरियंस शेयर करू .बात उस समय की है जब मैं क्लास 12वी में था. मैं टूशन पढने एक दीदी के पास जाता था उनका घर मेरे घर से थोड़ी दुरी पर था. तो प्रतिदिन मैं साम के टाइम उनके घर पड़ने जाता था .

जो दीदी मुझे ट्यूशन पढ़ाती थी उनका नाम सुजाता था और कद लग भाग  5 फुट के आसपास होगा .. उनका रंग सांवला था और बूब्स काफी बड़े थे, हमेशा वो साड़ी पहनती थी, तो ब्लाउज के ब्रा से उनका बढे बढे दो मुम्मे बाहर दिखते रहते थे.वहाँ पर सिर्फ़ में अकेला ही पढने जाता था। तभी एक दिन मेडम घर मे अकेली थी, में पढने के लिये बैठ गया था और तभी मेडम एक सेक्सी सी काले रंग की साड़ी मे वहाँ पर आई उनको ऐसे देखकर अब मेरी पेंट तम्बू बन गई थी,और उंदर उन्होंने कुछ नहीं पहेना था ,इसीलिए ब्लाउज के ऊपर से उनके मुम्मे बोहोत स्पस्ट नज़र में अरह था . तभी मेडम ने आकर मुझसे पूछा कि तुम इतना घूर कर क्या देख रहे हो। तभी मैने उनको कहा कि मेडम आज आप बहुत खबसूरत लग रही हो। उन्होंने मुझे कहा थेंक्स और आकर कुर्सी पर बैठ गयी थी और मै सोफे पर बैठा था, तभी मैं उनकी चूत देख रहा था और थोड़ी देर बाद मेडम ने कहा कि आज मई बायोलॉजी पढ़ाउंगा और सेक्सोटोमी ,ह्यूमन रिप्रोडक्टिव ऑर्गन के बारे में बताऊंगा .

मेरा नजर मैडम से हठ नहीं रहा था .मेडम बोली, “राहुल  क्या देख रहे हो |”मैं थोडा डर गया और बोला, “कुछ नहीं मेडम”अब मेडम जो बोली वह मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, उसने कहा, “खोल के दिखाऊं”.

अब ये सुनते ही मेरा मन बहुत खुश हो गया था। तभी मैंने बातो बातो में उनके बूब्स घूरता तो बहाने बहाने बहाने में कभी कभी उनके पीठ पर हाथ मारता था। लेकिन वो मुझे कुछ नहीं बोलती थी, अब मैंने थोड़ी हिम्मत करते हुए मेडम से पुछा कि मेडम सेक्स क्या होता है, अब वो ये सुनते ही बहुत ही शॉक हो गई थी और कहने लगी कि ये शब्द तुमने कहाँ से सुना है। अब मैने कहा कि आपको देखकर मेरी पेंट में बहुत कुछ होने लगता है और मेरे दोस्त ने कहा था कि ये सेक्स करना चाहता है, तो आप बताइए कि ये सेक्स क्या है। अब मेडम मुझसे कहने लगी कि तुम सीखना चाहते हो क्या? अब मैने सुनते ही कहा हाँ, तभी वो बोली ठीक है तो सुनो सेक्स क्या होता है। जब एक मेल अपना लंड फिमेल की चूत मे डालता है। तभी मैने कहा कि मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा है। चलो हम प्रेक्टिकली ट्राई करते है प्लीज़ और मेरे फोर्स करने पर वो मान गई और उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या तुमने कभी सेक्स देखा है। अब मैने कहा हाँ मर्डर फिल्म में देखा था। तभी वो बोल वैसा ही तुम मेरे साथ अब करो यह बात सुनकर मैं बहुत खुश हो गया था.

अब मैने मेडम को अपनी बाँहों में भर लिया और मेडम ने अपनी आँख बंद कर ली और लम्बी लम्बी साँसे लेने लगी। अब मैं किस देने लगा था और अब वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी थी और फिर किस करते हुए मैंने उनका पल्लू नीचे गिरा दिया था और अब वो बहुत गर्म हो चुकी थी। तभी मैंने उन्हें कहा कि मैने सिर्फ़ इतना ही देखा है, तभी वो कहने लगी कि तुम अब मेरे बूब्स को दबाओ और सहलाओ, अब मैं ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लगा था। तभी वो बोली कि अब तुम मुझे पूरा नंगा करो, अब मैंने पहले उनका ब्लाउज और ब्रा निकाली और बाद मे पेटीकोट और पेंटी भी मैने पूरी निकाल दी।

वो बोली कि अच्छा जल्दी से ले लो और मैंने जल्दी से उसकी पेंटी को खिसकाकर देखा तो उसकी एकदम चिकनी चूत थी और मैंने जब हाथ लगाया तो पाया कि चूत एकदम गीली थी.. शायद वो जोश में अगेया था और में  चूत को  दोनों पापड़ी चाटने लगा और वो अब ना करो बस और नहीं कह रही थी और खुद ही अपनी कमर हिलाकर चूत को चुसवा रही थी. फिर मैंने अपना मुहं उसकी गीली चूत से हटाया और हम दोनों के कपड़े ठीक किए उसे एक बार गले लगाया और स्कूटी बाहर निकालकर आ गए और अब यह रोज का काम हो गया और हम लोग रोज औरल सेक्स करते थे वो मेरे लंड को चूस चूसकर मेरा माल निकल देती और में भी उसकी चूत को चाट चाटकर उसे शांत कर देता.

एक दिन मैंने उसको कहा कि सुजाता मैडम प्लीज एक बार इसको अपने अंदर चूत लो ना.. वो बोली कि हाँ में जरुर ऐसा करूंगी.. लेकिन परसो घर में पूरा रात कोई नहीं रहेगा और तुम उस रात को मेरे घर पर आना. तो मैंने कहा कि ठीक है और फिर वो दिन आ गया..सुजाता मैडम फ़ोन किया मुझे और कहा .”जल्दी से आ जाओ “और में 10 मिनट में उसके घर पर पहुंच गया और उसने जैसे ही दरवाजा बंद किया.. तो मैंने उसको बाहों में भर लिया और वहीं पर खड़े खड़े किस करने लगा.

फिर वो बोली कि अरे अरे यह क्या कर रहे हो? अभी तो तुम्हारे पास पूरी दो राते पड़ी है. तो मैंने कहा कि रात तक इंतजार कौन कर पाएगा डार्लिंग.. तुम तो एटमबम हो फट जाओगी और वो ज़ोर से हंसने लगी. फिर मैंने उसके फूलों से नाजुक बदन को गोद में उठा लिया और सीधा उसके बेड पर आ गया और ताबड़तोड़ किस किए. वो भी मज़ा ले रही थी.. मैंने कहा कि मेडम क्या मलाई चाट लूँ? वो बोली कि हाँ चाट लो और मैंने उसको पूरा नंगा कर दिया.. वो एकदम अप्सरा जैसी लग रही थी. उसके बड़े बड़े बूब्स मैंने ज़ोर से दबाए.. वो अपनी दोनों आखें बंद किए थी और मैंने अपना लंड बाहर निकालकर उसके हाथ में थमा दिया और वो लंड से खेलने लगी. मैंने उसको पहली बार पूरा नंगा देखा था और में उसके ऊपर आ गया.

फिर से चूमने, चाटने लगा तो वो बोली कि तुम कितना चूमोगे? मैंने कहा कि आज में जी भरकर चूमना चाहता हूँ. तो वो बोली कि में क्या करूंगी? तो मैंने कहा कि जब तक यह चूस लो.. उसने कहा कि क्या? मैंने कहा कि यह.. वो बोली कि क्या? मैंने फिर से कहा कि पेनिस. फिर वो बोली कि डार्लिंग देसी लंड पिलाओ ना और फिर मैंने कहा कि यह लो और आगे होकर उसके मुहं में लंड को डाल दिया. वो मस्ती में लंड को चूस रही थी.. वाह! इतना मज़ा आ रहा था कि पूछो मत. उसके गालों पर लंड आता जाता महसूस हो रहा था.

फिर मैंने लंड को उसके मुहं से बाहर खींच लिया और नीचे की झुककर उसकी चूत पर लंड को टिकाकर अंदर डालने लगा. तो वो बोली कि बिना कंडोम सीईसीईईईईई और तब तक मैंने लंड को पूरा अंदर ही कर दिया और 5-6 जोरदार धक्के मार दिए.. फिर लंड थोड़ा बाहर किया तो वो सईईई आहहाहा बोली कि अह्ह्ह तुम ऐसा नहीं कर सकते.. तुमने कंडोम तक नहीं पहना. तो मैंने कहा कि डार्लिंग मेरा लंड पवित्र है और धक्का मारकर पूरा का पूरा अंदर डाल दिया. वो अह्ह्ह हिचकी ले गई और मैंने जब उसे धीरे धीरे कुछ देर चोदा तो वो थोड़ी देर बाद बोली कि हाँ और जोर से चोदो डार्लिंग मज़ा आ रहा अह्ह्ह्ह तुम्हारा लंड कितना बड़ा है आहह सईईई. तो में ताबड़तोड़ चुदाई करने लगा और वो बस आह्ह्ह आहाआह कह रही थी. मैंने उसके एक बूब्स को मुहं में लिया और धक्के देकर चोदने लगा तो वो मुझसे लिपटने लगी और उसने मुझे जकड़ लिया.

फिर मैंने उसे बहुत तेज़ी से चोदा.. वो आखें बंद किए चुदवाती रही और अब मेरा काम होने वाला था तो मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और एक साईड में करके उसका हाथ लंड पर रखवाकर हिलवाया और माल टपका दिया और में तुम्हे बहुत प्यार करता हूँ बोलकर उसके पास में ही लेट गया और हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर पड़े रहे. वो बोली अच्छा लगा यार.. मज़ा आ गया.. तुमने बहुत अच्छा चोदा..

फिर कुछ देर हम दोनों ऐसे ही नंगे लेटे रहे एक दुसरे के ऊपर और मैडम ने फिर मुझे गरम करने के लिए मेरी लंड को पकड़ के उकसाने लगी और मेरे लंड को हाथ से सहेलाके मुझे फिर से अपने लंड के ऊपर खरा कर दिया .दोस्तों में तो बहुत समय से यह सब करने के लिए बिल्कुल तैयार था और अब में उठकर खड़ा हुआ और मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर रखकर अंदर की तरफ एक फिर से जोरदार धक्का दे दिया और पहली ही कोशिश में मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी गुफा जैसी चूत में समा गया. दोस्तों आज पहली बार मुझे महसूस हुआ कि चूत अंदर से कितनी गरम होती है और में तो सोच रहा था कि इतना मोटा और गरम लंड से यह पिघल जाएगी, लेकिन मुझे तो कुछ देर बाद अपना लंड ही पिघलता हुआ महसूस होने लगा था और फिर मैंने उसे बहुत बुरी तरह से ताबड़तोड़ धक्के देकर चोदना शुरू कर दिया और उसकी सिसकियों की आवाज से मेरी हिम्मत और भी बड़ती जा रही थी ओहहह्ह्ह्हह हाँ और तेज प्लीज ओह ऑश और ज़ोर से चोदो मुझे, हाँ और ज़ोर से.

करीब दस मिनट तक लगातार जबरदस्त उछलकूद करने के बाद उसने मुझे कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और नीचे से धक्के देकर मेरा पूरा साथ देने लगी और अब उसकी सिसकियाँ शोर में बदल गयी और तेज़ी से कमर हिलाते हिलाते वो एकदम से निढाल हो गयी, लेकिन मेरे अंदर जान अभी भी बाकी थी और में भी उसे पूरे जोश में धक्के मार रहा था, लेकिन उसने मेरा साथ देना बंद कर दिया था और वो मुझसे बोली कि मुझे तुम्हारा वीर्य पीना है तो अपना लंड निकालकर मेरे मुहं में डाल दो प्लीज और अब मुझे भी अपना लंड चुसवाने का मन कर रहा था और लंड की सफाई भी करवानी थी इसलिए मैंने उसकी चूत के पानी से बुरी तरह भीगा हुआ अपना लंड उसके मुहं में घुसा दिया और वैसे भी वो लंड को चूसने में बहुत अनुभवी थी और उसने मेरे लंड को इतनी बुरी तरह से चूसा कि मेरा झड़ने का समय भी बहुत नज़दीक आ गया और मैंने पूरा का पूरा माल उसके मुहं में डाल दिया और वो स्वाद लेकर पूरा माल पी गयी और लंड को जब तक चाटती रही, जब तक वो बिल्कुल साफ और सिकुड़ नहीं गया.

जिंदगी में मुझे और सुजाता मैडम को भी इतना मज़ा पहली बार आया था और फिर उसने मुझे बताया कि उसकी ऐसी चुदाई पहले कभी किसी ने नहीं की थी. दोस्तों अब तो मेरा होसला और भी बढ़ गया और जब तक उसका पति नहीं आया तब तक में रोज़ दिन रात उसकी चूत में ही डूबा रहा और करीब चार पांच दिन के बाद मेरे दिमाग़ में एक आईडिया आया कि जिसकी चूत में इतना मज़ा है तो उसकी गांड कैसी होगी? और फिर एक दिन जब में उसके बूब्स पी रहा था तो मेरे मन में आया कि आज में इसकी गांड मारने की कोशिश करता हूँ और फिर मैंने अपनी इस इच्छा के बारे में उसे नहीं बताया बल्कि जब मैंने उसे सेक्स के लिए बहुत गर्म कर दिया तो मैंने उसकी चूत में लंड डालने की जगह उसकी गांड के मुहं पर लंड रखा और उसे ज़ोर से पकड़कर एक जोरदार झटके के साथ एक ही बार में पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में घुसा दिया, अहहह्ह्ह्हह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउईईईईईइ माँ वो दर्द से बिल्कुल कराह उठी, लेकिन मैंने उसको नहीं छोड़ा और में उसे कसकर पकड़े रहा और लगातार धक्के मारता रहा ऑश उफ्फ्फ माँ मर गई प्लीज बाहर निकालो, उईईईईई माँ मर गयी प्लीज निकालो ना, रोको यार में मर जाउंगी, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन मैंने देखा कि कुछ देर चिल्लाने के बाद उसे मज़ा आने लगा था और उसकी चीख अब सिसकियों में बदल गयी है.

फिर मैंने बहुत देर तक जमकर उसकी गांड मारी और पूरा का पूरा माल उसकी गांड में ही झाड़ दिया, लेकिन दोस्तों कसम से उसकी चूत जितनी गरम थी उतनी ही लज़ीज़ उसकी गांड भी थी. मैडम की जवानी का भूख मुझे लेकर डूबी .मई जितना दिन भी उनके पास पढने जाता था उतना दिन तक मई मस्ती किया ,पढाई छोड़ के बाकि सब कुछ हुआ .

If you like ==>>> Hindi sex story  Click here for more==>> hindi chudai kahani

शेयर कीजिये :

 

loading...

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *